There was an error in this gadget

Wednesday, 19 April 2017

कुछ यूँ ही

                 कुछ तथाकथि‍त साहित्यकार साहित्य में हदय के उद्गार कम मन के कुविचार ,मन की कुंठा ज्यादा लिखतें हैं । ये बहुत ही निंदनीय और शर्मनाक है । बहुत जल्दी प्रसिद्ध होने के ख्याल से लिखा गया ऐसा साहित्य समाज के लिए भी अभि‍शाप है । ऐसे साहित्यकार समाज को क्या पढाना चाहतें है इनके लिखे को पढकर मन उद्वविग्न हो जाता है ,मन कसैला हो जाता है । साहित्य पढे़ लिखों का समाज माना जाता है और यहॉ समाज के आरोप-प्रत्यारोप एवं गाली-गलौच को भी सभ्य भाषा में ढालकर पढने लायक भाषा में ढाला जाता है ताकि किसी को पढनें में बुरा न लगे । ये तथाकथ‍ित साहित्यकार तो परदे के बाहर एकदम यूॅ ही निर्वस्त्र नाचने को तैयार बैठे है । कहने को तो पढ़े लिखे पी०एच०डी किये सभ्य समाज से आयें हैं लेकिन मानसिकता बहुत ही तुच्छ है । मानते हैं कि विचारों की स्वतन्त्रता सबको है लेकिन इस स्वतन्त्रता में नैतिकता से पलायन कर जायें भला ये क्या बात हुई । ऐसे तथाकथ‍ित साहित्यकारों की कडी निन्दा की जानी चाहिए और खुले मंच से विरोध किया जाना चाहिए ।@avt

No comments: