There was an error in this gadget

Sunday, 29 July 2012

इस रक्षाबंधन  पर हमारी दीदी को अपनी पुरानी कविता

               दीदी हमारी चश्में वाली

            दीदी हमारी पढ़नें वाली
                              हर क्लास में अव्वल नम्बर
            देर रात को सोनें वाली
                              सुबह देर से जगती अक्सर
            पढाई में रूचि रखने वाली
                              पहनें चश्मा आँखों पर
            गीत सुरों में गाने वाली
                              राग अलापती मध्यम स्वर
             कभी -कभी हड्कानें वाली
                               कभी सुनाती प्यार का सुर
             हम सबकी बहना भोली भाली
                               बस लगता उसकी डाट से डर
             अच्छी चाय पिलाने वाली
                               कभी पिलाती हिन्दी का चैप्टर
             सुस्वाद भोजन पकानें वाली
                               सब्जी में आलू और परवल
             हिटलर की सी हाईट वाली
                               दिल की अच्छी चेहरा सुन्दर
             गाड़ी से चलने वाली
                                फैशन में भी हमसे ऊपर
              दीदी हमारी चश्में वाली
                                 घर की नाक घर का सर
               हर काम में हाथ बटानें वाली
                                  हर क्षेत्र में अव्वल नम्बर ।
               

3 comments:

"पलाश" said...

gud poem having true feeling about ur sister.
please setting mai jakar word varification ko hata dijy..

सागर said...

arey wah anand ji aisi hi to kuch meri di bhi hn.,."comment kaam ke de jati aksar..."

anand vikram tripathi said...

धन्यवाद बहन ,ब्लॉग के मामले में थोड़ा नया हूँ इसलिये कुछ दिक्कत हो रही है ।व्यवस्थित करने की कोशिश कर रहा हूँ ।