There was an error in this gadget

Wednesday, 20 March 2013

मैं घर का आँगन
तेरी यादों से महकाये रखता हूँ
जिससे तेरे होने का एहसास मुझे
तेरी बांहों के घेरे की तरह घेरे रखता है
...................आनंद विक्रम ..............

2 comments:

Vibha Rani Shrivastava said...

सुन्दर ख्याल !
शुभकामनायें !!

आनन्द विक्रम त्रिपाठी said...

उत्साहवर्धन टिप्पणी के लिए आभार मैम |