There was an error in this gadget

Saturday, 18 February 2017

           धड़कने दिल की


धड़कने दिल की
धड़कती बहुत है आजकल
नींद भी कमबख्‍त
कई करवटों के बाद
हाथ आती है आजकल
अनायास ही हॅसता हूॅ
बिना किसी बात के
आॉखें नम हो जाती है आजकल
                       न जाने क्‍यों कोई
                       दिल को बहुत भाता है आजकल
                       @anandvt

No comments: