There was an error in this gadget

Saturday, 16 April 2016

जो भी उठायी किताब गज़ल की
हर पन्‍ने पर तुम्‍हारी याद उभरी
......@आनन्‍द .....

No comments: