There was an error in this gadget

Friday, 17 March 2017

              तेरी यादें



सहेजते समेटते                                          
 सिमट गया हूॅ
यादों का पुरानापन
भाने लगा है
तुम्‍हें सहेज लिया है
रात होती है
जब यादों के शब्‍द
खूब सुनहरे दिखायी देतें है
किताबें यादों की निकालकर
पढ लेता हूॅ
.......@avt


No comments: