There was an error in this gadget

Saturday, 16 April 2016

शाम उदासि‍यों संग
खेलता रहा ,यादें-यादें
जो भी याद किया
उसमें तुम ही थे
....@आनन्‍द .....

No comments: